Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

एक अबोध बालक

एक अबोध बालक
मेरा और तुम्हारा कोई झगड़ा नहीं सच में मेरे दोस्त बस तुम अपनी काबलियत की रोटी खाते रहो और मेंअपनी बस इतनी सी गुज़ारिश है।

363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
दहेज रहित वैवाहिकी (लघुकथा)
दहेज रहित वैवाहिकी (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
■ बस एक ही सवाल...
■ बस एक ही सवाल...
*प्रणय प्रभात*
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3369⚘ *पूर्णिका* ⚘
3369⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आज का पुरुष औरतों को समान अधिकार देने की बात कहता है, बस उसे
आज का पुरुष औरतों को समान अधिकार देने की बात कहता है, बस उसे
Annu Gurjar
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपना-अपना भाग्य
अपना-अपना भाग्य
Indu Singh
बिछड़कर मुझे
बिछड़कर मुझे
Dr fauzia Naseem shad
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम क्यूं लिखें
हम क्यूं लिखें
Lovi Mishra
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कलम की दुनिया
कलम की दुनिया
Dr. Vaishali Verma
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
Loading...