Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

उस दिन पर लानत भेजता हूं,

उस दिन पर लानत भेजता हूं,

जिस दिन पहली बार देखा था तुझे ।।

विशाल बाबू ✍️✍️
जिला औरैया (उत्तर प्रदेश)

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
Kavi Devendra Sharma
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं भारत हूं (काव्य)
मैं भारत हूं (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसी बरसात भी होती है
ऐसी बरसात भी होती है
Surinder blackpen
अध्यात्म का शंखनाद
अध्यात्म का शंखनाद
Dr.Pratibha Prakash
3013.*पूर्णिका*
3013.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
No battles
No battles
Dhriti Mishra
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
कवि रमेशराज
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
Loading...