Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

उस जमाने को बीते जमाने हुए

अब तेरे सिवा दिल को कोई भाता नहीं,
दिल ये मेरा किसी से दिल लगाता नहीं,

है तुझमें क्या कमी दिल ये बताना नहीं,
तेरी गलतियों को ये गिनाता नहीं

तुम मिलो न मिलो है ये मसला नहीं
अब भी हो बैठे तुम मुझमें कहीं

कुछ कसमें कुछ वादे पुराने हुए,
हम तुम्हारे थें अब बेगाने हुए

क्या कहे खुदा की खुदाई सनम
हम खुदा थें तुम ही को बताने लगे

तेरी यादें भी अब मुझसे कहने लगी,
उस जमाने को बीते जमाने हुए।

गौरी तिवारी ,भागलपुर बिहार

Language: Hindi
2 Likes · 536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
प्रमेय
प्रमेय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
कृष्णकांत गुर्जर
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
3149.*पूर्णिका*
3149.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन की प्रीत
मन की प्रीत
भरत कुमार सोलंकी
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
पूर्वार्थ
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr Shweta sood
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...