Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

उसी पथ से

अब उसी पथ से चले आना
निसदिन स्याह सी सांझ ढले
कितनी कलियाँ राह में बिछी
चंचल दामिनी नभ में सजी

कँटील पथ तो रोकता था
यदा कदा टोकता भी था
तरु इक निमिष भी न झुक सके
पग तनिक क्षणभर न रूक सके

मस्तक पर नीला अम्बर तना था
श्वेत कोई सितारा बना था
तारों की बारात देखते
प्रीति को यूँ थाम लेते

प्रेम सी इक मृगमरीचिका
सरस्,सरल कोई वीथिका
शीतल जल से प्रखर बह जाना
अब उसी पथ से चले आना।।

✍”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
राम प्यारे हनुमान रे।
राम प्यारे हनुमान रे।
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2684.*पूर्णिका*
2684.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
𑒖𑒲𑒫𑒢 𑒣𑒟 𑒮𑒳𑓀𑒠𑒩 𑒯𑒼𑒃𑒞 𑒁𑒕𑒱 𑒖𑒐𑒢 𑒮𑒿𑒑 𑒏𑒱𑒨𑒼 𑒮𑓀𑒑𑒲
𑒖𑒲𑒫𑒢 𑒣𑒟 𑒮𑒳𑓀𑒠𑒩 𑒯𑒼𑒃𑒞 𑒁𑒕𑒱 𑒖𑒐𑒢 𑒮𑒿𑒑 𑒏𑒱𑒨𑒼 𑒮𑓀𑒑𑒲
DrLakshman Jha Parimal
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
दूषित न कर वसुंधरा को
दूषित न कर वसुंधरा को
goutam shaw
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
मेरा दामन भी तार- तार रहा
मेरा दामन भी तार- तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
The reflection of love
The reflection of love
Bidyadhar Mantry
"कोयल"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
■ शुभागमन गणराज 💐
■ शुभागमन गणराज 💐
*प्रणय प्रभात*
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
Loading...