Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2024 · 1 min read

उसकी वो बातें बेहद याद आती है

उसकी वो बातें बेहद याद आती है
कभी कभी तो हंसती आंखों को नम कर जाती है
मिलना तो शायद इत्तेफाक था
प्यार की वो बातें तो सिर्फ़ गम देकर जाती है
उसकी वो बातें जहन में इस क़दर समाई है
उसके जाने के बाद उसकी यादें भी रुलाती है।

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
"" *श्री गीता है एक महाकाव्य* ""
सुनीलानंद महंत
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
माटी करे पुकार 🙏🙏
माटी करे पुकार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़ुद की खोज
ख़ुद की खोज
Surinder blackpen
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
गीत
गीत
Shiva Awasthi
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
यारो हम तो आज भी
यारो हम तो आज भी
Sunil Maheshwari
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
सत्य कुमार प्रेमी
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
हश्र का मंज़र
हश्र का मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
"दर्द की तासीर"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
Loading...