Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

उसकी गली तक

उसकी गली तक
जाते हुए अपने कदम
खुद ही रोक दिए हमने…
हमारी इबादत
खेल जो बन गई थी
उसके लिए….

Vishal babu

1 Like · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
*अयोध्या*
*अयोध्या*
Dr. Priya Gupta
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*प्रणय प्रभात*
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
गुमनाम 'बाबा'
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
Dr MusafiR BaithA
बेटा
बेटा
Neeraj Agarwal
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
बलिदान
बलिदान
Shyam Sundar Subramanian
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
"अनुत्तरित"
Dr. Kishan tandon kranti
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
★किसान ए हिंदुस्तान★
★किसान ए हिंदुस्तान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो तेरी पहली नज़र
वो तेरी पहली नज़र
Yash Tanha Shayar Hu
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अर्थहीन हो गई पंक्तियां कविताओं में धार कहां है।
अर्थहीन हो गई पंक्तियां कविताओं में धार कहां है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
Loading...