Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

उसकी अदा

माना उसकी हर अदा, याद है तुम्हें
जानते है हम कि उससे, प्यार है तुम्हें
हो जाएगी वो तेरी यक़ीन है हमें
बस एक बार कह दे उसे, प्यार है तुम्हें

माना है डगर तेरी, मुश्किलों भरी
चलना ही पड़ेगा तुझे, जो चाहिए परी
प्यार उसके दिल में तेरा जाग जायेगा
सुना दे उसको बात जो दिल में है भरी

प्यार से फिर ज़िंदगी ये कटेगी तेरी
मुसीबतें सब ज़िंदगी से छंटेगी तेरी
तू जो चाहता है हो सुकून ही सदा
बस एक बार मान जा तू बात ये मेरी

अफसोस है ये मुझको कि तुझे याद नहीं है
तेरे दिल में मेरी कोई औकात नहीं है
बीत जायेगा ये वक्त तो फिर याद करोगे
मेरे जैसा और कोई दिलदार नहीं है।

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 1484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
तुम्हे देख कर ही ऐसा महसूस होता है
तुम्हे देख कर ही ऐसा महसूस होता है
Ranjeet kumar patre
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
शुभ प्रभात संदेश
शुभ प्रभात संदेश
Kumud Srivastava
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Dr.Pratibha Prakash
"इंसानियत की लाज"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी आँखों की जो ख़ुमारी है
तेरी आँखों की जो ख़ुमारी है
Meenakshi Masoom
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
Bodhisatva kastooriya
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
Loading...