Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2018 · 2 min read

उर्वशी की ‘मी टू’

उर्वशी की ‘मी टू’
—————-
“राजेश जी आप चांदनी चौक तरफ ही रहते हैं न ?” ऑफिस से निकलते ही डायरेक्टर साहब की स्टेनो उर्वशी जी ने पूछा.
“जी हाँ, वहीं मोड़ पर पहली गली में तीसरा मकान है हमारा.” ऑफिस में हाल ही नियुक्त क्लर्क राजेश ने बताया.
“हाँ, मुझे पता है. मैंने आपको उधर आते-जाते कई बार देखा है. मेरा घर भी चांदनी चौक के पास ही है.” उर्वशी ने बताया.
“अच्छा-अच्छा, फिर तो हम दोनों पड़ोसी निकले.” राजेश के मुँह से यूं ही निकल गया. आसपास खड़े सहकर्मी मुस्कुराने लगे.
“क्या आज आप मुझे अपनी बाइक पर लिफ्ट देंगे ? क्या है कि आज मेरी तबीयत कुछ ठीक नहीं है.” उर्वशी ने आग्रह किया.
“हाँ-हाँ, क्यों नहीं. आइए बैठिए.” राजेश ने कहा और दोनों चल पड़े.
अब तो दोनों के बीच अक्सर इस प्रकार की हल्की-फुल्की बातचीत होती रहती. प्रायः दोनों साथ ही आते-जाते. उर्वशी तलाकशुदा थी, जबकि राजेश अभी अविवाहित था. दोनों को एक दूसरे का साथ खूब रास आ रहा था.
उर्वशी अक्सर राजेश से सौ-दो सौ रुपये मांगती रहती थी, जिसे राजेश दोस्ती के नाते दे देता था, पर वह कभी लौटाती नहीं थी.
एक दिन उर्वशी ने राजेश से जरूरी काम के बहाने अचानक बीस हजार रुपये माँगे. राजेश ने साफ़ मना कर दिया. उर्वशी अड़ गई कि “मुझे पता है तुम्हें कल ही सेलरी मिली है और तुम्हारे पास पैसों की कमी नहीं है. यदि तुमने मुझे आज शाम तक बीस हजार रुपये नहीं दिए, तो मैं कल ही बॉस से तुम्हारी शिकायत कर दूँगा कि लिफ्ट के बहाने तुम मेरा यौन उत्पीडन करते हो. बाकि ऑफिस में गवाहों की कमी तो है नहीं, जो हमें आते-जाते अक्सर देखते हैं. ‘मी टू’ केम्पेन का नाम तो सूना ही होगा. नौकरी तो जाएगी ही, तुम कहीं भी मुँह दिखाने के काबिल नहीं रहोगे.”
अब राजेश को याद आया कि उर्वशी क्यूँ स्टाफ के लोगों के सामने अकसर उससे चिपक कर बाइक में बैठती थी.
नौकरी जाने और बदनामी के डर से उसे मन मारकर उर्वशी को बीस हजार रुपये देने पड़े. और अब तो बस सिलसिला ही शुरू हो गया. राजेश की लगभग आधी कमाई ‘मी टू’ में खर्च होने लगी और आधा समय किसी दूसरे शहर में अच्छी नौकरी की तलाश में बीतने लगा.
——————————
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Pradeep Kumar Sharma
View all
You may also like:
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30  न
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30 न
Shashi kala vyas
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
■ जानिए आप भी...
■ जानिए आप भी...
*Author प्रणय प्रभात*
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
दो💔 लफ्जों की💞 स्टोरी
दो💔 लफ्जों की💞 स्टोरी
Ms.Ankit Halke jha
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
यही रात अंतिम यही रात भारी।
यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
तेरी दहलीज़ तक
तेरी दहलीज़ तक
Surinder blackpen
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
एक घर।
एक घर।
Anil Mishra Prahari
....प्यार की सुवास....
....प्यार की सुवास....
Awadhesh Kumar Singh
💐प्रेम कौतुक-161💐
💐प्रेम कौतुक-161💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...