Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

उम्मीद नहीं थी

उम्मीद नहीं थी तुमसे बेवफाई की।
उस पर से इतनी जगह हंसाई की।

बहुत तड़पाया हमें तेरे झूठे वादों ने
मासूमियत से भरे तल्ख इरादों में।

आ गये हम तेरी मीठी मीठी बातों में
समझ न पाये कैसे फंसे घातों में।

इश्क करके तुमसे हम बहुत पछताये
छोड़ने वाले दिल दे फिर भी दुआये।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
Ravi Prakash
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
spam
spam
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
When you remember me, it means that you have carried somethi
When you remember me, it means that you have carried somethi
पूर्वार्थ
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आईना"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
Below the earth
Below the earth
Shweta Soni
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
मन की मनमानी से हारे,हम सब जग में बेचारे।
मन की मनमानी से हारे,हम सब जग में बेचारे।
Rituraj shivem verma
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
दहेज की जरूरत नही
दहेज की जरूरत नही
भरत कुमार सोलंकी
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...