Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

उपेक्षित

*मुक्तक*
मरुस्थल स्वार्थ का फैला नहीं कोई ठिकाना है।
उपेक्षित को सदा उम्मीद की कुटिया बनाना है।
जगत दाबे करे हमदर्द बनने के हजारों पर।
उन्हें तो भाग्य के आगे हमेशा सिर झुकाना है।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
319 Views
You may also like:
★उसकी यादें ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
मीरा के घुंघरू
Shekhar Chandra Mitra
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
दिल ने
Anamika Singh
तेरे रूप अनेक हैं मैया - देवी गीत
Ashish Kumar
हम और हमारे 'सपने'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
विसर्जन
Saraswati Bajpai
रात
अंजनीत निज्जर
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
✍️तमाशा✍️
'अशांत' शेखर
मेरी कलम से किस किस की लिखूँ मैं कुर्बानी।
PRATIK JANGID
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें ( स्मृति गीत)
Ravi Prakash
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu hai na'
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
दिल्ली का प्रदूषण
लक्ष्मी सिंह
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी ताकत को कलम से नवाजा जाए
कवि दीपक बवेजा
मुझे मेरे गाँव पहुंचा देना
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
"तब घर की याद आती है"
Rakesh Bahanwal
गम होते हैं।
Taj Mohammad
Loading...