Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 5 min read

उपमान (दृृढ़पद ) छंद – 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल

उपमान (दृृढ़पद ) छंद – 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल ,
(दो दो पद समतुकांत , या चारों पद तुकांत )

सबसे सरल विधान
#दोहा_छंद_के_सम_चरण_में_एक_मात्रा_घटाकर_पदांत_चौकल #करने_से_उपमान_(दढ़पद ) छंद बन जाता है

उपमान छंद , विधान

दोहा का पहला चरण , दूजा दस जानों |
चौकल करो पदांत तुम , छंद बना मानों ||
लिखे छंद उपमान हम, लय सुभाष देता |
एक चरण ; तेरह-दस , भार यहाँ लेता
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

उपमान (दृृढ़पद ) छंद – 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल ,

उपमान छंद ,{ विषय घड़ी }

घड़ी नहीं है आपकी ,भली रहे वह घर |
चलती अपनी चाल है , फैला अपने पर ||
करे इशारा वह सदा , कभी नहीं थकती |
बतलाती है वह समय ,चाल नहीं रुकती ||

घड़ी- घड़ी में लोग भी , रंग बदलते है |
कह सुभाष हँसती घड़ी , जब निज कहते है ||
यहाँ घड़ी हम छोड़कर , बनते खुद ज्ञानी |
काग सयाने सम बनें , करते नादानी ||

बड़ी घड़ी या लघु दिखे , समय एक रहता |
घड़ी समझती सब यहाँ , काँटा जब चलता ||
घड़ी कभी बँधती नहीं , हम खुद बँध जाते |
बार- बार हम देखते , बंधन ही पाते ||

टिक टिक करती है घड़ी , लोग करें खटपट |
मिटमिट करता काल है , हम कहते हटहट ||
मरने की आए घड़ी , तब बैठा रोता |
बँधी घड़ी चलती रहे , नर सब कुछ खोता ||

सुभाष सिंघई

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

उपमान छंद , विषय – परीक्षा (मुक्तक)

सदा परीक्षा दीजिए , साहस ही रखना |
पास फेल चिंता नहीं , बस उद्यम करना |
हो जाती पहचान है , कौन यहाँ मेरा –
हो जाते साकार हैं , जो पालें सपना |

जगत परीक्षा कक्ष है, सुख दुख हम सहते |
यहाँ खोजना हल पड़े , साहस हम रखते |
समझों जो दाता जगत , कहलाता ईश्वर –
कभी परीक्षा लें उठें , वह चलते – चलते |

कभी परीक्षा में अजब , प्रश्न मिले करने |
अपने मन के हाल सब , लिख सुभाष सपने |
भाव हृदय पट खोलकर , लिखना है पड़ता ~
अपने दुश्मन लिख यहाँ , कौन यहाँ अपने |

सुभाष सिंघई

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
उपमान छंद , गीतिका , विषय – सबसे अच्छा कौन ?
समांत – आरी , पदांत चर्चा

सबसे अच्छा कौन अब , है न्यारी चर्चा |
इधर-उधर की बात से , अब भारी चर्चा ||

डंका अपना पीटते , है मेरी लंका ,
शंका में है डालते , उपकारी चर्चा |

यहाँ मसीहा सब बनें , सबके सब नामी ,
चौराहों पर ‌ चल रही , लाचारी चर्चा |

जिन्हें चुना था छाँटकर , वह उल्टा चुनते ,
दिखती सुंदर रूप में , अब खारी चर्चा |

शोषण जिनका खुद किया , मर्यादा लूटी ,
आज करें उत्थान हित , वह नारी चर्चा |

उल्टे खेले खेल है , नियम सभी तोड़े ,
आज उन्हीं की कर रहे , सब पारी चर्चा |

समय नजाकत में चले , कुछ हम पहचानें ,
करे सुभाषा आपसे , कुछ जारी चर्चा |

लिखी गीतिका मित्रवर , कौन यहाँ अच्छा ,
मिला न उत्तर बंद है , अब सारी चर्चा |

सुभाष सिंघई

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
उपमान छंद , {शारदे वंदना )

धवल वसन कमलासनी, ब्रम्हपुरी रहती |
लिपि श्रुति माँ वागेश्वरी , वाणी शुभ कहती |
वीणा पुस्तक धारिणी , जय शारद माता |
हंसवाहिनी दिव्य तुम , है तुमसे नाता ||

अक्षर-अक्षर ज्ञान की , तुम शुचि मम देवी |
भक्ति भाव से पूजता, तेरा मैं सेवी ||
पुस्तक मेरी मित्र है , जो ज्ञानी दाता |
हंसवाहिनी दिव्य तुम , है तुमसे नाता ||

पुस्तक में जो खो गया , बन जाता ज्ञानी |
माता‌ तेरी है कृपा , गंगा सा पानी ||
चरण शरण से आपकी , बन जाता‌ ज्ञाता |
हंसवाहिनी दिव्य तुम , है तुमसे नाता ||

वेद ग्रंथ या कुछ कहो, सभी‌ नाम माता |
माँ शारद सबमें मिलें , मिलती सुख साता ||
आना मैया शारदा , भजन यहाँ गाता |
हंसवाहिनी दिव्य तुम , है तुमसे नाता ||
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
उपमान छंद , मुक्तक , 13- 10 , पदांत चौकल (दीर्घ दीर्घ / लघु लघु दीर्घ )

समस्या – मरें तो हम कहाँ मरें ? 😇

पत्नी कहती प्रिय सदा , मुझ पर ही मरना |
उस पर मरता तब कहे , नाटक मत करना |
घर से बाहर घूमता , तब कुढ़कर कहती-
कहाँ मरे थे आज तुम, हमसे सच कहना |😇🙏

मिली राह में जब हमे , अपनी ही साली |
बोली मरने क्यों कहीं , रहते हो खाली |
मुझको मरना आपका, समझ नहीं आया –
जीजा तुम तो लाल हो , जीजी है लाली |

कहे पड़ोसन आप अब, कहीं नहीं मरना |
रहकर अपने गेह में , मन की तुम करना |
मरना है जाकर कहाँ , सीखो कुछ जग से –
इधर-उधर मत खोजना , नहीं जरा डरना |

जगह नहीं मरने कहीं , मिले नहीं छाया |
किस पर न्यौछावर करूँ , अपनी यह काया |
नहीं मानता दिल यहाँ , हम मरना चाहें –
मरकर भी जिंदा रहे , भरने को आहें |

मंदिर जाकर जब मिला , प्रभुवर तब बोले |
रे सुभाष तू बात सुन , कहीं नहीं डोले |
पत्नी पर मरना सदा , समझो गहराई –
कितनी चाहत वह रखे , होंठ नहीं खोले |

(समस्या ज्यों की त्यों , पत्नी के निकट पहुँच गई है 😇🙏)
मरें तो हम कहाँ मरें ?

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~~~~

उपमान छंद , 13 – 10 , पदांत चौकल (दो दीर्घ)

दौलत जिसके पास है , उसको पहचानो |
अंदर से कितना दुखी , कुछ आकर जानो ||
दौलत पाकर वह सदा , पैसा चिल्लाता |
बोझा ढ़ोता रात दिन , ढेंचू‌ ही गाता ||

दौलत जिसके पास है , नींद नहीं आती |
पैसों की ही रात दिन , गर्मी झुलसाती ||
जितनी दौलत जोड़ता , उतनी कंजूसी |
बातचीत व्योहार में , बालों – सी रूसी ||

दौलत जिसके पास है , भरता है आहें |
त‌ृष्णा मृग -सी पालता , रखता वह चाहें ||
पैसा भी उसको सदा , तृष्णा में लाता |
महिमा अपनी जानकर , उसको भरमाता ||

सुभाष सिंघई √
~~~~~~~~~~~~~~~

सूरज चंदा है पथिक , ताप शीत देते |
कष्ट हमेशा आम जन , आकर हर लेते |
इनको माने जग सदा , यथा योग्य पूजे –
यही काम आएँ सदा , और न हों दूजे |

बिषधर पूजें सब यहाँ , खल बनते राजा |
आगे पीछे लोग सब , बजा रहे बाजा |
डसते जाते आम जन , कौन उन्हें टोकैं ~
डंका बजता राह में , कौन यहाँ रोकें |

सुभाष सिंघई

~~~~~~~~~~

राजनीति दंगल हुआ , चित्त हुआ नेता |
चमचा भी अब दूर है , खवर नहीं लेता ||
समय समय की बात है , बोतल अब खाली |
खुली धूप में दौड़ता , बागों का माली ||

सत्य‌ प्रकट हो सामने , छलिया सब भागें |
अंधे अपने भाव से , अंदर से जागें ||
सच कड़बा जो मानते , हर्षित हो पीते |
लाभ मिले उनको सदा , मस्ती में जीते ||

मत चूकों चौहान अब , सुनो कवि की वाणी |
भितरघात जो भी करे , दुश्मन वह प्राणी ||
मूँछें अपनी ऐंठता , सम्मुख जो आए |
मर्दन पहले कीजिए , जो भी चिल्लाए ||

रखवाली झूठी दिखें , गड़बड़ है माया |
चिडि़याँ बदले कब कहाँ , खेतों की काया ||
लोग चतुर अब बन रहे , समझें सुल्तानी |
कर्म एक दिन बोलते , छाई बेईमानी ||

~~~~~~~~~~~~

उपमान छंद

महुआ की मधुरम महक , मादकता छाई |
यौवन लाया बाढ़ है , प्रीति निकट आई ||
महुआ टपके रस भरे , है रात नशीली |
साजन करते प्रेम से , अब बात रसीली ||

बौराया है अब पवन , छू महुआ डाली |
कहता है हर कान में , इस रस में लाली ||
महुआ फूला पेड़ पर , रस में है डूबा‌ |
टपक अवनि की अंक से , हर्षित है दूबा ||

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

न्याय नीति के मिल रहे , हमको व्यापारी |
उच्च दरों से बेंचते , आज कलाकारी ||
नेता जी अब देश में , बनते उपयोगी |
हावी है अब न्याय पर , तिकड़म का रोगी ||

जगह-जगह हमको मिले, अब तिकड़मबाजी |
नेता के पहले करो , चमचों को राजी ||
मिलता उसको न्याय है , जहाँ दाम भारी |
वर्ना आती हाथ में , सीधी लाचारी |

एक न्याय देना प्रभू ,‌ सत्य वचन बोलूँ |
चरणों में लेना मुझे , बंधे पाप खोलूँ ||
शरण आपकी हो सदा , मिलवें सुख छाया |
रहे धर्म का ध्यान अब , करे भजन काया ||

सुभाष सिंघई

~ ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
उपमान छंद मुक्तक

सुख भी आता शान से , दुख भी है आता |
पर दोनों में फर्क है , दुख कुछ चिल्लाता |
सुख को भोगें आदमी , बनता अलवेला –
नशा द्रव्य का जब चड़े , तब ही मदमाता |

बचपन‌ यौवन कब गया , पता नहीं होता |
देख बुढ़ापा पास में , तब बैठा रोता |
जीवन यह कुछ खास था, कभी नहीं माना ~
मौसम हरदम हाथ से , निज हाथों खोता |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Language: Hindi
1 Like · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Why am I getting so perplexed ?
Why am I getting so perplexed ?
Sukoon
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी नाम बस
ज़िंदगी नाम बस
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
दिनकर शांत हो
दिनकर शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
विद्यार्थी जीवन
विद्यार्थी जीवन
Santosh kumar Miri
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
VEDANTA PATEL
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
Shweta Soni
बिखरी छटा निराली होती जाती है,
बिखरी छटा निराली होती जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
Phool gufran
Loading...