Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

उन पुरानी किताबों में

उन पुरानी किताबों में
फटे पन्नों के बजाय
अपठित पन्ने
वहां और अधिक है

+ ओत्तेरी सेल्वा कुमार

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
कानून लचर हो जहाँ,
कानून लचर हो जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
संत गाडगे संदेश 5
संत गाडगे संदेश 5
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ मौजूदा दौर...
■ मौजूदा दौर...
*Author प्रणय प्रभात*
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बरसात की झड़ी ।
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
इंतज़ार मिल जाए
इंतज़ार मिल जाए
Dr fauzia Naseem shad
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
Suryakant Dwivedi
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
प्रणय 2
प्रणय 2
Ankita Patel
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
"ये कैसा दस्तूर?"
Dr. Kishan tandon kranti
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
Ashok deep
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
Loading...