Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं

उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
कह नही सकती जी रही हूं या मर रही हूँ मैं

जिस्म कराहते रहे, अब रूह भी आहत हुआ है
देख अब अपना “ पर” खुद ही क़तर रही हूँ मैं

बड़ा गुमान रहा मुझे सदा, तेरा साथ होने का
इसीलिए, इसीलिए शायद अब बिखर रही हूँ मैं

मेरे साथ रहकर तुम्हें, कभी सुकून नही मिला
तुम्हारे लिए तो _पर्णविहीन शज़र रही हूँ मैं

दूर तलक मेरे अंदर, एक सन्नाटा सा पसरा है
इस बज़्म-ए-जहाँ का कोई वीरान् शहर रही हूँ मै

2 Likes · 2 Comments · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#प्रथम_स्मृति_दिवस
#प्रथम_स्मृति_दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
हुनर का मोल
हुनर का मोल
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
*विनती है यह राम जी : कुछ दोहे*
*विनती है यह राम जी : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! " ***
VEDANTA PATEL
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
Phool gufran
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
अपना दिल
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*फ़र्ज*
*फ़र्ज*
Harminder Kaur
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...