Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 2 min read

****उड़ान***( एक काव्यात्मक कथा)

मैं उस देश की बेटी जिसमें जन्मी सीता और सती |
मुझको मत कमजोर समझ तू ,
मैं ही धरती और नदी |

गंगा जमुना के जैसी हूँ ,
शीतल ठंडी और पवित्र |
ना कर मेला मुझको मानव |
मैं धरती की एक बेटी |

माँ से पाया जीवन मैने ,
माँ जैसी ममता रखती |
जीवन मेरा सफल हुआ है ,
पाई मैंने मानव योनि |

कीट पतंगे ना बन करके ,
आई जग में बेटी बन करके |
ना कर मेला जीवन मेरा ,
रहने दे मुझको सूची |

मैं इस जग को जीवन देती ,
देती बेटा और बेटी |
बेटा तो एक वंश बढ़ाता ,
बेटियाँ यश बढ़ाती है |
काम ऐसे वह करती हैं ,
बेटों से भी आगे बढ़ जाती है |

धरती की तो सैर सभी करते हैं ,
आसमां को छू कर आती है |
कल्पना की उड़ान वह भर्ती ,
अंतरिक्ष में पहुँच कल्पना जाती है |

हाड माँस को त्याग के भी ,
जीवन में नाम कर जाती है |
याद रखे हर नर बच्चा ,
ऐसे काम वह कर जाती हैं |

ऐ मानव जग जा तू अब ,
शक्ति को इसकी कम ना जान |
कंधे से कंधा , पग से पग ,
कदम बढ़ाती जाती है |
ऊँचाई को छू लेती है ,
ऊँची उड़ान भरके आती हैं|

रोक ना अब तू पाएगा उसको,
पर्दो में ना रख पाएगा |
ठान जो ली आगे बढ़ने की ,
पीछे न कर तू पायेगा |

समझ ना अब तू इसको कम ,
बेड़ी से बाँध ना पाएगा |
निकल पड़ी है तुझ से आगे ,
रोक ना अब तू पाएगा |

समझ इसी में है तेरी अब ,
साथ इसको तू लेकर चल |
कदम मिला संग इसके अब तू ,
कंधे से कंधा बाँध के चल |

संगी बन साथी बन इसका ,
ताकत को इसकी कम ना कर |
इस बेटी,नारी को अब तू ,
अबला समझने की भूल ना करें |

करी जो भूल तूने अब ऐसी गर्त में तू गिर जाएगा |
देखेगा जब रुद्ररूप इसका समझ ना तू कुछ पाएगा |
अंत हो जाएगा तेरा भी सृष्टि पर प्रलय जब आएगा |
***हाहाकार ही हाहाकार अपने नज़दीक तू पाएगा |***

******न मानी जो नीरू की तूने ,
नीरू(रोशनी/प्रकाश)****कभी न देख पाएगा |

Language: Hindi
1 Comment · 463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
shabina. Naaz
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
"तेरी यादों ने दिया
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
तुम मुझे बना लो
तुम मुझे बना लो
श्याम सिंह बिष्ट
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
विनती
विनती
Kanchan Khanna
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
Loading...