Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

*उजाले से लड़ा‌ई में अॅंधेरा हार जाता है (मुक्तक)*

उजाले से लड़ा‌ई में अॅंधेरा हार जाता है (मुक्तक)
__________________________________
दिलाने के लिए सच को विजय त्यौहार आता है
पराजय दर्य-आपूरित मनुज हर बार पाता है
दिवाली पर दिया माटी का टकराया अमावस से
उजाले से लड़ा‌ई में अॅंधेरा हार जाता है
————————————————
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उ०प्र०
मोबाइल. 9997615451

Language: Hindi
137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Shyam Sundar Subramanian
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
Neeraj Agarwal
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
"उल्लू"
Dr. Kishan tandon kranti
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
गलतियाँ हो गयीं होंगी
गलतियाँ हो गयीं होंगी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कहां गये हम
कहां गये हम
Surinder blackpen
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
नारी- स्वरूप
नारी- स्वरूप
Buddha Prakash
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
(हमसफरी की तफरी)
(हमसफरी की तफरी)
Sangeeta Beniwal
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
"ख़्वाहिशें उतनी सी कीजे जो मुक़म्मल हो सकें।
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-328💐
💐प्रेम कौतुक-328💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज तू नहीं मेरे साथ
आज तू नहीं मेरे साथ
हिमांशु Kulshrestha
Loading...