Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।

इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
बैचेनी और तड़प जैसे लगाए आजार।
टूटा हुआ दिल है अश्कों से भीगा दामन ,
क्या कहें ! नामुराद को भेजते है लानतेँ हजार ।

105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
*पापी पेट के लिए *
*पापी पेट के लिए *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
निर्णय लेने में
निर्णय लेने में
Dr fauzia Naseem shad
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
आदमी
आदमी
अखिलेश 'अखिल'
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बात
बात
Ajay Mishra
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
DrLakshman Jha Parimal
Loading...