Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,

इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इसलिए श्रेष्ठ व्यवहार और इंसानियत बनाएं रखें।।

✍️ लेखक – लोकेश शर्मा

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
बड़े भाग मानुष तन पावा
बड़े भाग मानुष तन पावा
आकांक्षा राय
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चाहत
चाहत
Bodhisatva kastooriya
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
■ बस, एक ही अनुरोध...
■ बस, एक ही अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
Loading...