Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

इससे पहले कि ये जुलाई जाए

इससे पहले कि ये जुलाई जाए
हर भूखे को रोटी खिलाई जाए ।
a m prahari

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"परखना "
Yogendra Chaturwedi
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Choose yourself in every situation .
Choose yourself in every situation .
Sakshi Tripathi
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
श्री राम जी अलौकिक रूप
श्री राम जी अलौकिक रूप
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
Loading...