Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने

इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
जी को जलाने पर भी वफा नही मिलती

जिसकी किस्मत में हो उसी को मिली है
सभी को जिंदगी में मुहब्बत नहीं मिलती

शामिल होंगे शायद गुनाहगारों में हम भी
मासूमों को कभी यहाँ सजा नहीं मिलती

उम्र बीत गयी फिर भी कसक बनी रही
ख्वाबों में मिली हकीकत में नहीं मिलती

फिर वास्ता रखा नहीं कभी किसी से हमने
हर किसी से राणाजी तबियत नहीं मिलती

©ठाकुर प्रतापसिंह राणाजी
सनावद (मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आखिर मैं हूं ऐसी क्यों
आखिर मैं हूं ऐसी क्यों
Lovi Mishra
Inspiring Poem
Inspiring Poem
Saraswati Bajpai
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
!!!! कब होगा फैसला मेरा हक़ में !!!!
!!!! कब होगा फैसला मेरा हक़ में !!!!
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तुम मेरी
तुम मेरी
Dr fauzia Naseem shad
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
भोलेनाथ
भोलेनाथ
Adha Deshwal
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
"लालटेन"
Dr. Kishan tandon kranti
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
गुमनाम 'बाबा'
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
लक्ष्मी सिंह
Loading...