Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

इश्किया होली

रंग होली के लगाएँगे उसे
दिल में हम बसाएंगे उसे
अपना हाल ए दिल आज
होली के रंगों से सुनाएंगे उसे

होली में तो लगते है दुश्मन भी गले
आज गले लगकर अपना बनाएंगे उसे
है जो मेरे दिल की तमन्ना बरसों से
अपने दिल की धड़कन सुनाएंगे उसे

है नहीं ये सिर्फ़ रंग होली के
ये हमारे जीवन के अंदाज़ है
चमक रहा तेरा चेहरा जिनसे
वो रंग मेरे दिल की आवाज़ है

समझ ले अब तो इनको
चेहरे से अपने दिल में उतार दे
बाक़ी की ज़िंदगी अपनी
अब तू मुझको उधार दे

नहीं रखूंगा पलकों पर तुम्हें
अपने दिल में ज़रूर बसा लूंगा
नज़र न लग जाए दुनिया की
इसलिए तुम्हें दिल में छुपा लूंगा

कह रहे है ये रंग भी आज
रंग दो तुम मेरे दिल को भी आज
बना लोगे मुझको अपना कान्हा
तो यादगार बन जाएगी ये होली आज।

Language: Hindi
8 Likes · 1 Comment · 1296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
वो अनुराग अनमोल एहसास
वो अनुराग अनमोल एहसास
Seema gupta,Alwar
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
गुमनाम 'बाबा'
कैसे- कैसे नींद में,
कैसे- कैसे नींद में,
sushil sarna
मजदूर
मजदूर
Namita Gupta
होली
होली
Dr Archana Gupta
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
49....Ramal musaddas mahzuuf
49....Ramal musaddas mahzuuf
sushil yadav
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
दहेज की जरूरत नही
दहेज की जरूरत नही
भरत कुमार सोलंकी
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
जिसके भीतर जो होगा
जिसके भीतर जो होगा
ruby kumari
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Love
Love
Kanchan Khanna
"मनमीत मेरे तुम हो"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Life is too short
Life is too short
samar pratap singh
Loading...