Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।

इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
अब कोई अपना या पराया नहीं होता ।
लोग वादे तो मौहब्बत में हज़ारों करते हैं ।
अब तो चेहरा रोककर गिला करता है यहां ।।
Phool gufran

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह तो आदत है मेरी
यह तो आदत है मेरी
gurudeenverma198
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
शिव की बनी रहे आप पर छाया
शिव की बनी रहे आप पर छाया
Shubham Pandey (S P)
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
मंजिल के राही
मंजिल के राही
Rahul yadav
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
💐अज्ञात के प्रति-30💐
💐अज्ञात के प्रति-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उद्दंडता और उच्छृंखलता
उद्दंडता और उच्छृंखलता
*Author प्रणय प्रभात*
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh Manu
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
ऐ पड़ोसी सोच
ऐ पड़ोसी सोच
Satish Srijan
मेरे सपने बेहिसाब है।
मेरे सपने बेहिसाब है।
CA Amit Kumar
.
.
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
गोरी का झुमका
गोरी का झुमका
Surinder blackpen
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...