Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2023 · 1 min read

इश्क़ का दस्तूर

इश्क़ बदनाम है पर इश्क़ मसहूर है देखो
इश्क़ बदनाम है पर इश्क़ का दस्तूर है देखो

आशिकी करते हैं पर कोई दिखाता नहीं
हर कोई आशिक है पर कोई बताता नहीं
हर किसी को अपने इश्क़ पर गुरूर है देखो
इश्क़ बदनाम है पर इश्क़ का दस्तूर है देखो

लोग यूँ दिल की बात छिपा के रखते है
वो हसीना को दिल में बसा के रखते हैं
सभी छुपाते हैं वो जैसे इश्क़ कुसूर है देखो
इश्क़ बदनाम है पर इश्क़ का दस्तूर है देखो

‘विनोद’ इश्क़ है तो फिर छुपाना कैसा
दिल की दौलत है दिल में दबाना कैसा
मासूका पास हो ये सभी को मंजूर है देखो
इश्क़ बदनाम है पर इश्क़ का दस्तूर है देखो

3 Likes · 162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
सम्भव नहीं ...
सम्भव नहीं ...
SURYA PRAKASH SHARMA
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
राम आएंगे
राम आएंगे
Neeraj Agarwal
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
Ravi Prakash
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
वसंत बहार
वसंत बहार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
ग़ज़ल(गुलाबों से तितली करे प्यार छत पर —)————————–
ग़ज़ल(गुलाबों से तितली करे प्यार छत पर —)————————–
डॉक्टर रागिनी
उसको देखें
उसको देखें
Dr fauzia Naseem shad
"बड़ी बातें करने के लिए
*प्रणय प्रभात*
लगा हो ज़हर जब होठों पर
लगा हो ज़हर जब होठों पर
Shashank Mishra
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मात -पिता पुत्र -पुत्री
मात -पिता पुत्र -पुत्री
DrLakshman Jha Parimal
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...