Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो

इशारों इशारों में ही,मेरा दिल चुरा लेते हो,
एक नज़र देखकर ही,अपना बना लेते हो।
सोचा था नजरो से हाल ए दिल बताएंगे,
मगर तुम देखते ही, नज़रे झुका लेते हो।।

अपनी जान तक दे दूंगी,तुम्हारे एक इशारे पर,
मगर तुम हो इस किनारे और मै उस किनारे पर।
अजमा कर तो देखो,अपना एक इशारा देकर,
पार करूंगी गहरी दरिया आऊंगी तेरे किनारे पर।।

दूर रहकर भी मुझे अपने पास बुला लेते हो,
नींद न आने पर मुझे सहला कर सुला लेते हो।
तुम्हारे मेरे बीच में ये क्या अजीब रिश्ता बना है,
जो चुम्बक की तरह मुझे पास खींच लेते हो।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 532 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
■ आम जनता के लिए...
■ आम जनता के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
"फसाद की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जाने  कौन  कहाँ  गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
जाने कौन कहाँ गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
Loading...