Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2016 · 1 min read

*इरादों में तुम रखना जान*

इरादों में तुम रखना जान और मुट्ठी में आसमान
हर मुश्किल के ही आगे,लेना अपना सीना तान
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
राहें तेरी मीत बनेंगी,आगे बढ़ने की लो ठान
मुमकिन है तेरे लिये सब,इस का ही बस रखना भान
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बनकर शेर सा ही रहना,गीदड़ का ना रखना स्थान
दौर भले कैसा भी हो,कायम रखना अपनी शान
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
सब का ही तुमरखनामान,भले -बुरे का रखना ज्ञान
खुशियों को पाना हो गर,कर लेना खुद से पहचान
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
पाकर मंज़िल कोअपनी,करना न कभी अभिमान
इरादों में तुम रखना जान और मुट्ठी मे आसमान…..
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
Tag: गीत
343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
Mahendra Narayan
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
Dr. Man Mohan Krishna
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
Ravi Prakash
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
श्रीकृष्ण शुक्ल
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संघर्ष........एक जूनून
संघर्ष........एक जूनून
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
3145.*पूर्णिका*
3145.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*Author प्रणय प्रभात*
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता
कविता
Shiva Awasthi
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
Loading...