Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 2 min read

इमोजी है तो सही यार…!

■ इमोजी है तो सही यार…!

सुबह हो दोपहर हो या फिर शाम।
हमारे पास काम हो या पूरा आराम,
हम जैसे जड़वत भी
चेतनता का सुबूत देते हैं,
समस्त मानवीय भावों से दिन भर काम लेते हैं।
हम खुलकर हँसते हैं, मुस्कुराते हैं,
कभी ज़ोर का ठहाका तक लगाते हैं।
कभी ऐसे हँसते हैं कि बत्तीसी चमकती है,
कभी गालों पर लाली सी दमकती है।
कभी चेहरा गुस्से से लाल हो जाता है,
कभी इसी चेहरे पर भूचाल हो जाता है।
दुःख हो तो आँख से आँसू निकलता है।
कभी चेहरे पर ठिठोली का भाव मचलता है।
कभी आँख बंद होते ही जीभ निकलती है,
कभी आँखों व चेहरे पर शोखी मचलती है।
कभी अचंभे से आँखें फ़टी सी रह जाती हैं,
कभी यही आँखें आँसू का सैलाब लाती हैं।
कभी आँखों मे पीड़ा का भाव छलकता है,
कभी चेहरे पर तनाव झलकता है।
मज़े की बात यह है कि
सब होता है दिखावा,
जिसे कह सकते हैं संवेदनाओं से छलावा।
मतलब सब कुछ होकर भी नहीं होता,
हमारा दिल न मचलता न हँसता न रोता।
हम शहद भूलकर उनके अर्थ खो चुके हैं,
भावों और भावनाओं से विमुख हो चुके हैं।
नक़ली चेहरों पर पल पल परत बदलते हैं,
असल में ना मुस्कान है ना आँसू निकलते हैं।
हम संवेदना, सरोकारों से पल्ला झाड़ लेते हैं,
टसुए बहाते-बहाते ही दांत भी फाड़ लेते हैं।
ज़रा भी झूठ नहीं है कसम रोटी रोज़ी की,
ये सारी मेहरबानी है बस इमोजी की।
अब काहे की संवेदना और कैसे सरोकार?
रस्म-अदायगी के लिए इमोजी है तो सही यार!!”
■ प्रणय प्रभात ■

Language: Hindi
1 Like · 50 Views
You may also like:
✍️नये सभ्यता के प्रयोगशील मानसिकता का विकास
'अशांत' शेखर
💐💐सेवा अर्थात् विलक्षणं सुखं💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पैसे का विस्तार
Buddha Prakash
आजादी के दीवानों ने
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"रावण की पुकार"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
उस पार
shabina. Naaz
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण 'श्रीपद्'
Music and Poetry
Shivkumar Bilagrami
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
दूरी रह ना सकी, उसकी नए आयामों के द्वारों से।
Manisha Manjari
पर खोल…
Rekha Drolia
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
Taj Mohammad
*सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
सच
विशाल शुक्ल
"जल्दी उठो हे व्रती"
पंकज कुमार कर्ण
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
गीत : मान जा रे मान जा रे…
शांतिलाल सोनी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
Dr. Meenakshi Sharma
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
वियोग
पीयूष धामी
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
माँ
Prabhat Prajapati
राम दीन की शादी
Satish Srijan
"भीमसार"
Dushyant Kumar
Loading...