Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं

(शेर) – मैं भारत का बेटा हूँ , भारत ही मेरा वालिद है । यह धरती मॉं मेरी जननी , यह वतन ही मेरा मालिक है ।।
मर भी जाऊं अगर मैं इसके लिए , तो मुझको इसका गम नहीं ।
बस गम यही है कि हम , उनके काबिल नहीं है ।।
——————————————————–
(गीत)- बढ़ चले हैं कदम अब तेरी राह में , पीछे मुड़ने का अब कोई काम नहीं ।
हम चले हैं कफन सिर पे बांधकर , इन तूफानों का हमको डर कुछ नहीं ।।
बढ़ चले हैं कदम अब तेरी राह में ————————–।।

तेरी अस्मत को , कोई आकर लूटे ।
तेरी धरती को , कोई आकर बांटे ।।
करके तुझसे दगा , हमला तुझपे करें ।
तेरा चैनो- अमन , कोई जालिम लूटे ।।
लुटती इज्जत तेरी देख सकते नहीं , सह सकते नहीं ।
ऐसे में हमको जीने का हक कुछ नहीं , हक कुछ नहीं ।।
बढ़ चले हैं कदम अब तेरी राह में ————————–।।

हमपे तेरा ऐ मॉं , बहुत अहसान है ।
सबको देना पनाह , तेरा ईमान है ।।
यह तिरंगा कभी नहीं , झुकने देंगे ।
तु ही अरमां मेरा , तु मेरी शान है ।।
बहते आंसू तेरे देख सकते नहीं, सह सकते नहीं ।
तुझपे मरने का गम हमको कुछ भी नहीं , डर कुछ भी नहीं ।।
बढ़ चले हैं कदम अब तेरी राह में ———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी. आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
Anil chobisa
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
राम राम
राम राम
Sonit Parjapati
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Shyam Sundar Subramanian
खालीपन
खालीपन
MEENU
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
$úDhÁ MãÚ₹Yá
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2866.*पूर्णिका*
2866.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
Ravi Prakash
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दर्द लफ़ज़ों में
दर्द लफ़ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल / #कुछ_दिन
#ग़ज़ल / #कुछ_दिन
*Author प्रणय प्रभात*
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
Loading...