Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

इन चरागों का कोई मक़सद भी है

इन चरागों का कोई मक़सद भी है
यूँ ही जलना ,या,शगल इनका है कोई।

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
*पाया दुर्लभ जन्म यह, मानव-तन वरदान【कुंडलिया】*
*पाया दुर्लभ जन्म यह, मानव-तन वरदान【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
24/01.*प्रगीत*
24/01.*प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
* सामने बात आकर *
* सामने बात आकर *
surenderpal vaidya
कविता
कविता
Neelam Sharma
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
Dr fauzia Naseem shad
■ आ चुका है वक़्त।
■ आ चुका है वक़्त।
*Author प्रणय प्रभात*
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
Loading...