Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2022 · 1 min read

इन्तेहा हो गयी

कोई बिछड़ गया
कोई बिखर गया
क्या फर्क़ पढा
दुनिया तो उसी
तरह चलती रहेगी
कोई जी गया
कोई मर गया
क्या फर्क़ पढ़ा
दुनिया तो उसी
तरह चलती
रहेगी
कहीं खुशी मिली
कहीं ग़म मिला
क्या फर्क़ पढा
दुनिया तो उसी
तरह चलती रहेगी
कोई आगे बढ़ गया
कोई पीछे रह गया
क्या फर्क़ पढा
दुनिया तो उसी
तरह चलती रहेगी

Language: Hindi
391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मय है मीना है साकी नहीं है।
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
पितृ दिवस ( father's day)
पितृ दिवस ( father's day)
Suryakant Dwivedi
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
#सुबह_की_प्रार्थना
#सुबह_की_प्रार्थना
*प्रणय प्रभात*
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2850.*पूर्णिका*
2850.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
शीर्षक – वेदना फूलों की
शीर्षक – वेदना फूलों की
Sonam Puneet Dubey
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
*सर्राफे में चॉंदी के व्यवसाय का बदलता स्वरूप*
*सर्राफे में चॉंदी के व्यवसाय का बदलता स्वरूप*
Ravi Prakash
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...