Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।

गज़ल

2122/1212/22(112)
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
प्यार तुमसे हुआ नहीं होता।

कोई दुनियां से हो बड़ा लेकिन,
माॅं से कोई बड़ा नहीं होता।2

बिन तपाए मियां करो कुछ भी,
कोई सोना खरा नहीं होता।3

कर्म इंसान के बुरे होते,
कोई इंसां बुरा नहीं होता।4

एक प्रेमी अगर न मिलता तो,
प्यार का सिलसिला नहीं होता।5

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
किसी से उम्मीद
किसी से उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
असली नकली
असली नकली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-266💐
💐प्रेम कौतुक-266💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
होली...
होली...
Aadarsh Dubey
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...