Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2022 · 1 min read

इतना भी खुद में

इतना भी खुद में कोई शाद अकेला न रहे।
ज़िन्दगी हो और जीने की तमन्ना न रहे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
16 Likes · 274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
🌱कर्तव्य बोध🌱
🌱कर्तव्य बोध🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
शादीशुदा🤵👇
शादीशुदा🤵👇
डॉ० रोहित कौशिक
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
Bidyadhar Mantry
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
" प्रश्न "
Dr. Kishan tandon kranti
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ओस
ओस
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
3272.*पूर्णिका*
3272.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वैवाहिक चादर!
वैवाहिक चादर!
कविता झा ‘गीत’
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
जुदाई
जुदाई
Dipak Kumar "Girja"
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनांतर🙏
मनांतर🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
एक ही नारा एक ही काम,
एक ही नारा एक ही काम,
शेखर सिंह
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
Ravi Prakash
Loading...