Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

इतना घुमाया मुझे

इतना घुमाया मुझे
छान ली मैंने दुनिया
कितना भी भटके
किनारा कर जाएंगे

कवि दीपक सरल

1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
Kalamkash
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
पाखंड
पाखंड
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
"इश्क़ की गली में जाना छोड़ दिया हमने"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
बाजार
बाजार
PRADYUMNA AROTHIYA
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
*गैरों से तो संबंध जुड़ा, अपनों से पर टूट गया (हिंदी गजल)*
*गैरों से तो संबंध जुड़ा, अपनों से पर टूट गया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मूर्ख व्यक्ति से ज्यादा, ज्ञानी धूर्त घातक होते हैं।
मूर्ख व्यक्ति से ज्यादा, ज्ञानी धूर्त घातक होते हैं।
पूर्वार्थ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
तन प्रसन्न - व्यायाम से
तन प्रसन्न - व्यायाम से
Sanjay ' शून्य'
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
मतलबी ज़माना है.
मतलबी ज़माना है.
शेखर सिंह
"सावित्री बाई फुले"
Dr. Kishan tandon kranti
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...