Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

इक अजीब सी उलझन है सीने में

इक अजीब सी उलझन है सीने में
ये मैं ही हूं या कोई और है आइने में
जैसा दिखाना चाहता हूं खुद को औरों में
आखिर दिखा क्यों नहीं पाता?

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
💐प्रेम कौतुक-249💐
💐प्रेम कौतुक-249💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
जीने का सलीका
जीने का सलीका
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोहनी-महिवाल
सोहनी-महिवाल
Shekhar Chandra Mitra
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
कवि रमेशराज
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
Ravi Prakash
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
नारी तेरा रूप निराला
नारी तेरा रूप निराला
Anil chobisa
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*Author प्रणय प्रभात*
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"कड़वा सच"
Dr. Kishan tandon kranti
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
Loading...