Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2022 · 1 min read

आ जाओ राम।

राम तेरी नगरी बस रही है।
बस तेरी ही कमी हमें खल रही है।
आ जाओ राम ,लगाओ फिर दरबार।
जन-जन तुम्हें अब ढूंढ़ रही है।
जन-जन तुम्हें अब ढूंढ रही है ,

धरती है कष्ट में करो उद्धार ,
फिर से बना दो यहाँ राम राज्य ,
फिर बरसा दो खुशियों की बौछार,
जन – जन अब तुम्हें पुकार रही है।
जन-जन तुम्हें पुकार रही है।

आ जाओ राम अब देर न करो
देर पहले ही बड़ी हो गई है।
आतुर है जन-जन तेरे दर्शन को,
अब तो दर्शन दे दो राम,
अब देर न करो प्रभू श्री राम।

हाथ जोर खड़े हैं सब ,
देर न करो प्रभु अब,
करके हमारे पापों का नाश,
अपने शरण में लेकर हम सबको ,
पाप से मुक्ति दे दो राम।॥

सुन लो विनती है हम सब की,
अब तो आ जाओ राम
देर बहुत पहले ही हो गई।
अब न देर करो प्रभु राम।॥

~ अनामिका

3 Likes · 325 Views
You may also like:
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उचित मान सम्मान के हक़दार हैं बुज़ुर्ग
Dr fauzia Naseem shad
सवाल कब
Dr fauzia Naseem shad
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
# पिता ...
Chinta netam " मन "
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
पिता का दर्द
Nitu Sah
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
कर्म का मर्म
Pooja Singh
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
अधुरा सपना
Anamika Singh
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
पिता
Meenakshi Nagar
Loading...