Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 9, 2016 · 2 min read

आस

पांच साल बाद बेटा बहू और पोते को लेकर दिवाली पर घर आ रहा था। कुसुम बड़े मनोयोग से सब तैयारियों में जुटी थी। बाहर भीतर घर चंदन करने में अपनी जान लगा रही थी।
पोते को देखने को तरसी आंखे बार बार छलक उठती थीं। शाम होने को आई थी। मन आशंकित होता जा रहा था , कहीं बहू सीधे मायके तो नहीं चली गई। पर काफी इंतज़ार के बाद बच्चे घर आ गये। जैसे पूरा घर चहचहाने लगा। मन के दीपक जल उठे। सब खुश थे। दो दिन बाद बेटे को ससुराल भी जाना था। बहू का भाई भी आया भाईदूज का टीका खाना पीना शोर हंसी मजाक , पता ही नहीं चला समय कैसे बीता। लौटते समय फिर आने को कह बच्चे घूमने चले गये। जैसे जीने का बहाना मिल गया। दुकाने जो नीरस दिखाई देती थीं अचानक जैसे जीवंत हो उठीं। तरह तरह के खानो की तैयारी में कुसुम दिलोजान से लगी रही। अपनी उम्र , तबियत सब पसीने से तरबतर उसकी मुस्कानो में खोती रही। मेज पर जगह नहीं बची थी न ही फ़्रिज में।
बच्चे आये। बहू के मायके से ड्राईवर और नौकर साथ आया। कुसुम ने उन्हे बहुत प्यार से खाना खिला कर विदा किया। बच्चो को इकट्ठा किया सामान दिखाने लगी। बेटा मां का दिल रखने की पुरजोर कोशिश कर रहा था।
पर समय कुछ और लिखना चाहता था। बहू का भाई भी इसी शहर में रहता है। आने के कुछ देर बाद ही बहू ने कहा वो अब भाई के घर जायेगी क्योंकि उसने नया घर लिया है। वहीं खाना खायेंगे और वहीं से सवेरे चले जायेंगें।
देर रात तक कुसुम सब समेटती रही, आंसुओं ने न जाने क्यूं बहने से इंकार कर दिया था।

3 Likes · 1 Comment · 154 Views
You may also like:
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
अनामिका सिंह
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
वर्षा
Vijaykumar Gundal
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
रसीला आम
Buddha Prakash
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
मोहब्बत।
Taj Mohammad
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H. Amin
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
"अशांत" शेखर
Loading...