Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2016 · 2 min read

आस

पांच साल बाद बेटा बहू और पोते को लेकर दिवाली पर घर आ रहा था। कुसुम बड़े मनोयोग से सब तैयारियों में जुटी थी। बाहर भीतर घर चंदन करने में अपनी जान लगा रही थी।
पोते को देखने को तरसी आंखे बार बार छलक उठती थीं। शाम होने को आई थी। मन आशंकित होता जा रहा था , कहीं बहू सीधे मायके तो नहीं चली गई। पर काफी इंतज़ार के बाद बच्चे घर आ गये। जैसे पूरा घर चहचहाने लगा। मन के दीपक जल उठे। सब खुश थे। दो दिन बाद बेटे को ससुराल भी जाना था। बहू का भाई भी आया भाईदूज का टीका खाना पीना शोर हंसी मजाक , पता ही नहीं चला समय कैसे बीता। लौटते समय फिर आने को कह बच्चे घूमने चले गये। जैसे जीने का बहाना मिल गया। दुकाने जो नीरस दिखाई देती थीं अचानक जैसे जीवंत हो उठीं। तरह तरह के खानो की तैयारी में कुसुम दिलोजान से लगी रही। अपनी उम्र , तबियत सब पसीने से तरबतर उसकी मुस्कानो में खोती रही। मेज पर जगह नहीं बची थी न ही फ़्रिज में।
बच्चे आये। बहू के मायके से ड्राईवर और नौकर साथ आया। कुसुम ने उन्हे बहुत प्यार से खाना खिला कर विदा किया। बच्चो को इकट्ठा किया सामान दिखाने लगी। बेटा मां का दिल रखने की पुरजोर कोशिश कर रहा था।
पर समय कुछ और लिखना चाहता था। बहू का भाई भी इसी शहर में रहता है। आने के कुछ देर बाद ही बहू ने कहा वो अब भाई के घर जायेगी क्योंकि उसने नया घर लिया है। वहीं खाना खायेंगे और वहीं से सवेरे चले जायेंगें।
देर रात तक कुसुम सब समेटती रही, आंसुओं ने न जाने क्यूं बहने से इंकार कर दिया था।

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kokila Agarwal
View all
You may also like:
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
2391.पूर्णिका
2391.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh Manu
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ समझ का अकाल
■ समझ का अकाल
*Author प्रणय प्रभात*
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐सुख:-दुःखस्य भोग: असाधनम्💐
💐सुख:-दुःखस्य भोग: असाधनम्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
चौवालीस दिन का नर्क (जुन्को फुरुता) //Forty-four days of hell....
चौवालीस दिन का नर्क (जुन्को फुरुता) //Forty-four days of hell....
Jyoti Khari
साया ही सच्चा
साया ही सच्चा
Atul "Krishn"
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...