Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

आशिकी

आशिकी प्रेम का पैगाम मांगती
बदले में घर परिवार की बलिदान मांगती
प्रेम की रंगभूमि में खरा उतरने के लिए
इंतिहान मांगती।

तू आजा मेरे साथ
रंगरेलियां मनाऊंगी
मां क्या सुनाई होगी
जो लोरियां मैं सुनाऊंगी
गा _गा के वह जुबान मांगती ।

देख लेना मैं तुझे क्या से
क्या बना दूंगी,
देवता से पत्थर
या पत्थर से देवता
बना दूंगी
एक बार अगर आए तो
सारा आसमान मांगती।

तू फिदा हो जाए इस कदर
मालूम हो! बदल गया मुक्कदर
तू जानता नही , मैं
कितनो का घर बार लूटी हूं
जुड़ जुड़ कर कई बार टूटी हूं
कई जान दे बैठे , फिर भी जान मांगती।

इसका न कोई मां बाप है
कहती है सिर्फ आप हैं बस आप हैं
नादानी का शिकार करती
जवानी को बेकार करती
कर कर के जुर्म इंसाफ मांगती।

हां सुनो मुझे
कौन जानता नही
मुझे पहचानता नहीं
दिल के दरवाजे को खटखटाती हूं
कुछ करने को बार बार उकसाती हूं
सौतन की तरह जान की दुश्मन बन जाती हूं
अक्सर मैं इश्क का
निशान मांगती हूं
मैं तो प्रेम का पैगाम मांगती हूं . ……

1 Like · 556 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from साहिल
View all
You may also like:
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
इक दिन तो जाना है
इक दिन तो जाना है
नन्दलाल सुथार "राही"
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-462💐
💐प्रेम कौतुक-462💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
बड़ी होती है
बड़ी होती है
sushil sarna
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
Loading...