Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ

आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
चूड़ी- कंगन से सजे,मेंहदी वाले हाथ
मेंहदी वाले हाथ, नाक में नथनी चमके
माँग भरा सिंदूर, भाल पर बिंदी दमके
कहे’अर्चना’ बात, घटा भी काली छायी
गोरी झूले मस्त , तीज हरियाली आयी

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
"फूल"
Dr. Kishan tandon kranti
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
Ranjeet kumar patre
"आत्म-निर्भरता"
*Author प्रणय प्रभात*
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
DrLakshman Jha Parimal
उसका आना
उसका आना
हिमांशु Kulshrestha
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
gurudeenverma198
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
Loading...