Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

आपके आसपास

आपके आसपास
रिश्तेदारों एवं मित्रों
का बड़ा समूह होता है
लेकिन वास्तव में आपके
गिनेचुने ही शुभचिंतक
होते है।
डॉ. रश्मि मिश्रा

2 Likes · 734 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रदीप माहिर
■ तेवरी-
■ तेवरी-
*प्रणय प्रभात*
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
2702.*पूर्णिका*
2702.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
"दूरी के माप"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
Neeraj Agarwal
जो गुज़र गया
जो गुज़र गया
Dr fauzia Naseem shad
अकेलापन
अकेलापन
भरत कुमार सोलंकी
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
Loading...