Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2023 · 1 min read

आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है

आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
लेकिन इनकी छाप दुसरो के हृदय मे
विराजमान रहती है::::::मेरे अनुभव:::::
///::::हल ऋतुराज वर्मा::::///

1 Like · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
शिक्षा बिना है, जीवन में अंधियारा
शिक्षा बिना है, जीवन में अंधियारा
gurudeenverma198
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
कवि दीपक बवेजा
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ शारदे...
माँ शारदे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
Shiva Awasthi
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
Satish Srijan
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
आंखों में कभी जिनके
आंखों में कभी जिनके
Dr fauzia Naseem shad
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
सजनाँ बिदेशिया निठूर निर्मोहिया, अइले ना सजना बिदेशिया।
सजनाँ बिदेशिया निठूर निर्मोहिया, अइले ना सजना बिदेशिया।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
■ एक ही खटका।।
■ एक ही खटका।।
*Author प्रणय प्रभात*
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समग्र क्रांति
समग्र क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
*निर्धनता ( कुंडलिया )*
*निर्धनता ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
Loading...