Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

*आत्मा की वास्तविक स्थिति*

आत्मा की वास्तविक स्थिति
चेतन बुद्धि ,इंद्रियां और शरीर से पार्थक्य अवश्य है। आत्मा नामक कोई पदार्थ निश्चय ही विद्यमान है; परंतु उसकी सत्ता में किसी हेतु की उपलब्धि बहुत ही कठिन है।
सत्पुरुष बुद्धि इंद्री और शरीर को आत्मा नहीं मानते; क्योंकि स्मृति (बुद्धि का ज्ञान) अनियत है तथा उसे संपूर्ण शरीर का एक साथ अनुभव नहीं होता। इसलिए वेदो और वेदांतों में आत्मा को पूर्वानुभूत विषयों का स्मरण कर्ता,सम्पूर्ण गेय पदार्थों में व्यापक तथा अंतर्यामी कहा जाता है। यह ना स्त्री है, न पुरुष है और न नपुंसक ही है। न ऊपर है , न अगल बगल में है , न नीचे है और न किसी विशेष स्थान – विशेष में। यह संपूर्ण शरीरों में अविचल ,निराकार एव अविनाशी रूप में स्थित है।ज्ञानी पुरुष निरंतर विचार करने से उस आत्म तत्व का साक्षात्कार कर पाते हैं।
वायवीय संहिता
शिव पुराण
*परात्पर परमब्रह्म परमेश्वर के शिव
कल्याणकारी स्वरूप🙏🏼🔱🔔🔱🔔🔱🔔🔱🔔🔱🔔
Shri shivay Namstubhayam 🌹

240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
"तेरे बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
हर सीज़न की
हर सीज़न की
*प्रणय प्रभात*
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
Untold
Untold
Vedha Singh
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
Loading...