Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

आतंकी का मौत

❆ कुण्डलियाँ
प्रथम प्रयास (भोजपुरी)
**********************
आतंकी के मौत पर, अश्रु दीहनी ढार,।
लागरहल ह अँखिया में, आईल रऊआ बाढ़।।
आईल रऊआ बाढ़, देख के लाज लजाईल।
नामुराद के मौत, पत्थर खुबे फेकाईल।।
कहै सचिन कविराय, खाईं देशभक्ति फंकी।
तब जाके ना आई , देश में एक आतंकी।।
……….
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

…….

207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
सुनो, मैं सपने देख रहा हूँ
सुनो, मैं सपने देख रहा हूँ
Jitendra kumar
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*प्रणय प्रभात*
"पर्दा"
Dr. Kishan tandon kranti
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
घर संसार का बिखरना
घर संसार का बिखरना
Krishna Manshi
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
Bidyadhar Mantry
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी को दर्द
ज़िंदगी को दर्द
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
Neeraj Mishra " नीर "
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
Sonam Puneet Dubey
Loading...