Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

#आज_का_दोहा

#आज_का_दोहा
दिनांक – १६/५/२०२३
काम, क्रोध, मद् लोभ का, मन ही करता बोध।
पुनि – पुनि हर्ष विषाद का, करता है नित शोध।।

✍️पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
अम्बे तेरा दर्शन
अम्बे तेरा दर्शन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रूठी साली तो उनको मनाना पड़ा।
रूठी साली तो उनको मनाना पड़ा।
सत्य कुमार प्रेमी
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
भोले
भोले
manjula chauhan
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3653.💐 *पूर्णिका* 💐
3653.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"भुला ना सके"
Dr. Kishan tandon kranti
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
*बचकर रहिए ग्रीष्म से, शुरू नौतपा काल (कुंडलिया)*
*बचकर रहिए ग्रीष्म से, शुरू नौतपा काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
"Always and Forever."
Manisha Manjari
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
पूर्वार्थ
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...