Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2016 · 3 min read

आज भी याद है वो रात

रवि को फिर वहीं रात याद आ गयी , मूसलाधार बरसात हो रही थी और साँझ ने यह कहते हुए “आओ , मेरे पास । बहुत भीग गये हो कुछ ताप दूँ तुमको । उसे अपनी कोख में छिपा लिया था और रवि जिसकी सर्दी से हृदय धड़कन बढ़ गई थी यह कहते हुए , साँझ ! मुझे दुपका लो अपने हृदयतल में। साँझ में समा गया था । अंग से अंग सटाये दोनों को आभास न हुआ कब रात हुई और कब सुबह ।

सूर्य आकाश में अपनी रश्मियों के साथ चमक रहा था वहीं किरणें उन दोनों पर पड़ रही थी ।

साँझ ने झकझोरते हुए कहा , ” रवि , उठो । माँ याद कर रही होंगी , उठो और जाओ घर ।

रवि चलता गया , कदम बढाने के साथ -साथ साँझ के साथ बिताए पल भी आगे ही आगे बढ़ते जा रहे थे ।

जवानी भी किसी रूपसि कम नहीं होती जो अपने अंग -प्रत्यंग की खुशबू दूसरे में बसा जीना दुश्वार कर देती है और कल्पनालोक के संसार में विचरण करने को मजबूर कर अपने को किसी राजकुमार से कम भास नहीं कराती ।

कालेज से घर के रास्ते को लोटते हुए रवि की निगाह बरबस उस इमारत पर टिक जाती थी
जो मुगलकाल में बनी थी , जहाँ रवि और साँझ का प्रथम प्रणय शुरू हुआ था । प्राय: होठों से बुदबुदाते हुए मुस्कराहट के साथ पुकार बैठता था “साँझ , तुम कहाँ हो, कब आओगी “पर साँझ की अनुपस्थिति में एक आवाज अन्तस से आती और गूँज उठती -“रवि ! रवि !

मैं यहीं तुम्हारे पास हूँ और हमेशा , हमेशा के लिए ।

बस इन्तजार है उस दिन का जब तुम पढ़ाई पूरी करने के बाद मुझे अपनी दुल्हन बना हमेशा के लिए मुझे ले जाओगें ।

साँझ भावुक को अपनी निजता को खोलने लगी , रवि , ” पता है पापा ने एक लड़का देखा लेकिन तुम को छोड़ और किसी को जिन्दगी भर को अपना कहना रवि !अब सम्भव नहीं ।
इतना सुनकर रवि कहता , “तुम अस्वीकार क्यों नहीं कर देती ” । इतना कहकर ऐसे टिप्स रवि बताता कि साँझ का रिश्ता गैर से कभी न जुड़ पाये ।

हर रोज दोनों का मिलना जारी रहा , शाम के समय घूमते हुए रवि साँझ कीएक झलक पाने को आतुर रहता ।जब देख लेता तो दिल को सुकून मिल जाता और न देखने पर खोया – खोया सा रहता । पेम की खुमारी भी बड़ी तीव्रता से चढ़ती है ,कुछ नहीं सूझता उसके आगे । रोजमर्रा की दिनचर्या में के रंग – ढंग अहीब से हो जाते है , यहीं हाल रवि का था ‘ ।

रवि को बुझा – बुझा सा देखकर उसकी दोस्त हपिल पूछ ही बैठा “रवि ! क्या हुआ ? लेकिन रवि की चुप्पी से ही कपिल को अपने प्रश्न का उत्तर मिल चुका था । तब कपिल ने कुछ पूछना आवश्यक नहीं समझा ।

एक दिन साँझ आॅफीस से घर जाते हुए मिल गयी। रविदने उसका हाथ अपने हा थ में ले लिया और कहा , साँझ चलें , इस दुनियाँ से बहुत दूर । क्षण भर को प्रेमी मन साथ -साथ हो लिया लेकिन फोन की घंटी बतजते ही सँभल कर बोली , नहीं रवि , पापा का फोन है ऐसा कहकर रवि का हाथ झटकते हुए चलने लगी , लेकिन रवि ने पुकारते हुए कहा , रूको जस्ट वन मिनट , मत जाओ साँझ , तुम मेरी हो ।

जैसे परमपिता ने दोनों के बीच कोई कनेक्शन स्थापित कर रखा हो साँझ रूक गयी , रवि बात सुन रहा और एक बिजली सी चमक साँझ के अन्तर प्रकाशमान हो कहने लगी , साँझ ! बस तुम मेरी , केवल मेरी हो ।

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
73 Likes · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
आज की जेनरेशन
आज की जेनरेशन
ruby kumari
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सरकार से सवाल
सरकार से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
निरापद  (कुंडलिया)*
निरापद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
जय लगन कुमार हैप्पी
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
उसी ने हाल यह किया है
उसी ने हाल यह किया है
gurudeenverma198
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐💐किसी रोज़ जरूर मिलेंगे देखना💐💐
💐💐किसी रोज़ जरूर मिलेंगे देखना💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
अनुराग दीक्षित
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
कविता
कविता
Shiva Awasthi
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
Loading...