Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन

आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन लोगों ने निंन्दा या आलोचना नहीं की हो । राम , कृष्ण, नानकदेव, सुकरात , ईसा , बुध्द , महावीर और गांधी क्या कोई आलोचना से बचे थे ? आलोचना से वही बच सकता हैं , जो बिलकुल निक्कमा और निरुपयोगी आदमी हो । फल वाले वृक्षों पर ही पत्थर फेंके जाते हैं , कंटिली झाडियों पर नहीं । लोगों व्दारा आलोचना किया जाना आपके समक्ष सफल व्यक्तित्व का प्रमाणपत्र है । आप निश्चित होकर वही कीजिए , जिसे आप उचित समझते हैं । लोक निंदा या आलोचना की परवाह बिलकुल न करें । सफलता निश्चित हैं । इसलिए पड़वा की बधाई एवं शुभकामनाएं जी । जय जय माँ लक्ष्मी.।

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
Rejaul Karim
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
Raazzz Kumar (Reyansh)
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
...
...
Ravi Yadav
'क्या कहता है दिल'
'क्या कहता है दिल'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आईना अब भी मुझसे
आईना अब भी मुझसे
Satish Srijan
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"आखिर"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
तोल मोल के बोलो वचन ,
तोल मोल के बोलो वचन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
■ बेहद शर्मनाक...!!
■ बेहद शर्मनाक...!!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...