Sep 30, 2016 · 1 min read

आज के गीत

~~~~~~कुण्डलिया छंद~~~~~~

सुनते राम भजन सभी,,,हो जाते हैं बोर
चिकनि-चमेली धून पे, होते भावविभोर।
होते भावविभोर,,,,सभी को नाच-नचाते
होता है हुड़दंग,,,,,,,जोर से साँग बजाते।
कह महंत कविराय,,,,,,गीत बेढंगे चुनते
बेढब थिरका करें,,,साँग जब ऐसे बजते।।

“साँग” – रिमिक्स गाने के लिए प्रयोग

बी0 आर0 महंत

158 Views
You may also like:
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
**किताब**
Dr. Alpa H.
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
*"पिता"*
Shashi kala vyas
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
केंचुआ
Buddha Prakash
तन्हाई
Alok Saxena
ग़ज़ल
kamal purohit
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
नदियों का दर्द
Anamika Singh
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
उस दिन
Alok Saxena
पिता
Anis Shah
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...