Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

आज के गीत

~~~~~~कुण्डलिया छंद~~~~~~

सुनते राम भजन सभी,,,हो जाते हैं बोर
चिकनि-चमेली धून पे, होते भावविभोर।
होते भावविभोर,,,,सभी को नाच-नचाते
होता है हुड़दंग,,,,,,,जोर से साँग बजाते।
कह महंत कविराय,,,,,,गीत बेढंगे चुनते
बेढब थिरका करें,,,साँग जब ऐसे बजते।।

“साँग” – रिमिक्स गाने के लिए प्रयोग

बी0 आर0 महंत

236 Views
You may also like:
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
कुछ कहता है सावन
Ram Krishan Rastogi
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️रूह की जुबानी
'अशांत' शेखर
हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा
RAFI ARUN GAUTAM
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
हरी
Alok Vaid Azad
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
" आशा की एक किरण "
DrLakshman Jha Parimal
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
# किताब ....
Chinta netam " मन "
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बद्दुआ
Harshvardhan "आवारा"
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सौदागर
पीयूष धामी
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक हक़ीक़त
shabina. Naaz
मंदिर दीप जले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैंने रोक रखा है चांद
Kaur Surinder
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
सुविधा भोगी कायर
Shekhar Chandra Mitra
किसने क्या किया
Dr fauzia Naseem shad
एक प्रश्न
komalagrawal750
Loading...