Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

आज की जेनरेशन

आज की जेनरेशन

मुस्कुराते चेहरों के साथ

अपने डिप्रेशन को छुपाते हुए

खुद को तस्वीरों में सजाते हुए

सुनी आँखों में सूखा समंदर समाए हुए

दुनिया को झूठ दिखाते हुए

🌱अधूरा ज्ञान🌱

428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
बदल सकता हूँ मैं......
बदल सकता हूँ मैं......
दीपक श्रीवास्तव
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
*आदत*
*आदत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नाटक नौटंकी
नाटक नौटंकी
surenderpal vaidya
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
"काम करने का इरादा नेक हो तो भाषा शैली भले ही आकर्षक न हो को
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
Neelam Sharma
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
I KNOW ...
I KNOW ...
SURYA PRAKASH SHARMA
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
" मुद्रा "
Dr. Kishan tandon kranti
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
Suryakant Dwivedi
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...