Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

आखिर क्यों

लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
भाषा हिंदी
विषय वो लम्हें
शीर्षक आखिर क्यों

वो लम्हें जो सुखदायक होते हैं बीत जाते तत्परता से आखिर क्यों ?

वो लम्हें जिन्हें नहीं चाहते हम भुलाना भूल जाते हैं अनभिज्ञता में, आखिर क्यों ?

वो लम्हें जो दुखदायक होते हैं नहीं बीतते लाख कोशिशों के बाद भी,आखिर क्यों ?

ये जिन्दगी एक पहेली सी क्षमता ममता की ख़ोज में समर्पित है ।

प्रेम प्यार चाहते हम सभी लेकिन मिलती जुदाई और बिचोह है।

वो लम्हें जो पीड़ादायक देते हैं सताते सालों साल ही आखिर क्यों ?

कौन किसका मददगार है और कौन किसका हाथ पकड़ कर ले चलेगा पार ।

ऐसे अनगिनत सवालों में उलझा रहता है ये जीवन जी रहे हम सभी ।

यदि मालूम है आपको तो समझा देना इस अबोध बालक को भी ऋणी रहूंगा जिंदगी के साथ और जिन्दगी के बाद भी।

😂🩷😂🩷😂🩷

80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
हो जाएँ नसीब बाहें
हो जाएँ नसीब बाहें
सिद्धार्थ गोरखपुरी
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
जिद और जुनून
जिद और जुनून
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
ऐसे हैं हमारे राम
ऐसे हैं हमारे राम
Shekhar Chandra Mitra
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
जेठ की दुपहरी में
जेठ की दुपहरी में
Shweta Soni
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
Dr MusafiR BaithA
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...