Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2017 · 1 min read

आखिर!कब?

@आखिर! कब?@

“तुम इस हद तक जा सकते हो;मैंने कभी सोंचा भी नहीं था।तुम्हारे सीने में दिल नहीं पत्थर है;जो सिर्फ दूसरों को चोंट पहुँचाने का काम करता है।”-दाँत पीसते हुए रूपा ने बसंत को खरी-खरी सुनाई । “जब जिंदगी अपने लय में सरपट दौड़ती जाती है; उसे अपने सिवाय जब कुछ नजर नहीं आती तो समझ जाओ वह अपने अंदर कितना दर्द समेटे जी रहा होगा। आखिर! तुम मुझसे कहना क्या चाहती हो?” जवाब के इंतजार में बसंत रूपा को एकटक देखे जा रहा है । रूपा -“तुम शादी कब कर रहे हो?” बसंत -“हमारे चाह लेने मात्र से सबकुछ नहीं बदल जाता ।मेरे हालात मुझे इजाजत नही देते।मुझे कुछ वक्त और चाहिए।” बसंत ने अपनी मजबूरी जाहिर किया ।
” जब दिल किसी को चाहने लगता है तब चाह कर भी उसे कुछ और नहीं भाता” रूपा की कुछ ऐसा ही हाल था। वह करे तो क्या करे? उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था।बस दिल था जो अपने आप को तसल्ली दे रहा था कि-“कभी न कभी; कहीं न कहीं से;इक उम्मीद की रौशनी जरूर मुझ तक पहुँचेगी ।मेरा दामन भी; कभी न कभी ;खुशियों से भर जाएगी ।पर सवाल यह था? आखिर! कब?यह इंतजार कब तक?

श्री एस•एन•बी•साहब

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
छटपटाता रहता है आम इंसान
छटपटाता रहता है आम इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धनतेरस
धनतेरस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते रहेंगे ! आप सुने ना सुन
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते रहेंगे ! आप सुने ना सुन
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
*Author प्रणय प्रभात*
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
Loading...