Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

आई होली झूम के

आई होली झूम के, नाचो गाओ यार।
मित्रों से मिलकर गले, स्नेह पाओ अपार।।

आया होली पर्व है, रंगो का त्यौहार।
उड़ता रंग गुलाल है, खुशियां मिले अपार।।

धूम मची चहुँओर है, बरसे रंग गुलाल।
दिखते सारे चेहरे, रंग बिरंगे लाल।।

मन की कटुता को मिटा , सबसे रखिए स्नेह।
लड़ने में क्या है रखा, नश्वर है यह देह।।

आओ अपने धर्म पर, मिलकर करते गर्व।
जिसने हम सबको दिए, सुंदर सुंदर पर्व।।

Language: Hindi
2 Likes · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
*एकता (बाल कविता)*
*एकता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
"परवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
ज़िंदगी को दर्द
ज़िंदगी को दर्द
Dr fauzia Naseem shad
घर से निकले जो मंज़िल की ओर बढ़ चले हैं,
घर से निकले जो मंज़िल की ओर बढ़ चले हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज फिर से
आज फिर से
Madhuyanka Raj
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक प्रभावी वक्ता को
एक प्रभावी वक्ता को
*प्रणय प्रभात*
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
लेखनी का सफर
लेखनी का सफर
Sunil Maheshwari
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
sushil yadav
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
आखिर क्यों तू
आखिर क्यों तू
gurudeenverma198
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गृहणी का बुद्ध
गृहणी का बुद्ध
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...