Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

आईने के पास जाना है

हम छत पे खड़े हैं चाँद के दीदार वास्ते
आपको तो बस आईने के पास जाना है
~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

Language: Hindi
1 Like · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
यह तो आदत है मेरी
यह तो आदत है मेरी
gurudeenverma198
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
पूर्वार्थ
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
" दूरियां"
Pushpraj Anant
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
बादल
बादल
Shankar suman
है एक डोर
है एक डोर
Ranjana Verma
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
दिल की हरकते दिल ही जाने,
दिल की हरकते दिल ही जाने,
Lakhan Yadav
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...