Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2022 · 1 min read

आईना

ये आईना क्या देगे
तुझे तेरी हुस्न की ख़बर,
मेरी आंखों से पुछ कर तो देख
कितनी हसीं है तू…

Language: Hindi
1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार~
विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मिसाल उन्हीं की बनती है,
मिसाल उन्हीं की बनती है,
Dr. Man Mohan Krishna
समय भी दो थोड़ा
समय भी दो थोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
Sangeeta Beniwal
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
Anil chobisa
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
Anamika Tiwari 'annpurna '
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
Satish Srijan
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
तुम सबने बड़े-बड़े सपने देखे थे, धूमिल हो गए न ... कभी कभी म
तुम सबने बड़े-बड़े सपने देखे थे, धूमिल हो गए न ... कभी कभी म
पूर्वार्थ
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...